pexels andrea piacquadio 774866

Think positively | सकारात्मक सोचें 1

pexels andrea piacquadio 774866
positively

तेज रफ्तार जिंदगी के मौजूदा दौर में हरेक शख्स अपने को दौड़ में बनाये रखने की लड़ाई लड़ रहा है। शायद यह पहली बार है, जब हम अपने सामने इतना कुछ तेजी से बदलते देख रहे है। इस रफ्तार में आदमी की खुद को वजूद में बनाये रखने की कवायद रोज-ब-रोज मुश्किल और मुश्किल होती जा रही है।

निराशा से उबरें

ऐसे में आदमी का सोच कभी-कभी नकारात्मक और निराशाजनक हो जाना शायद एक सहज प्रकिया है। हालांकि प्रायः इस निराशाजनक दौर से आदमी जल्‍दी ही उबर जाता है। मगर कुछ लोगों के दिल और दिमाग में नैराश्य का भाव इस कदर घर कर जाता है कि उन्हें उम्मीद की कोई उजली किरण नजर नहीं आती। निराशा के घुप्प अंधेरे में वह खुद को बिल्कुल असहाय पाता है।

निराश व्यक्ति की सोच भी नकारात्मक हो जाती है। उसे लगता है कि वह भले ही कुछ भी कर ले, उसको वर्तमान स्थिति से कोई भी नहीं उबार सकता। बस, यही सोच व्यक्ति को पतन की ओर ले जाती है।

pexels monstera 6311587
positively

नजरिया बदलें, नजारे बदलेंगें

दरअसल आदमी अपना नजरिया बदलकर तो देखें, नजारे ही बदलते नजर आएंगे। जैसे रात के बाद दिन आता है, इसी तरह दुःख के बाद सुख आना अवश्यंभावी है। सुख के दिन जरूर लौटते हैं। व्यक्ति को उन दिनों की उम्मीद में दुःख भरे की खा देने चाहिए। व्यक्ति खराब दिनों में भी परिश्रम और प्रयास करना नहीं छोड़ेते सुख के दिन जरूर ही लौट आते हैं। कहा भी जाता है, प्रयास कोई-सा भी हो, कभी अकारथ नहीं जाता। श्रीकृष्ण गीता में कहते हैं – ‘तू कर्म किये जा, कभी भी फल की आस न कर।’

प्रयास करना क्‍यों छोड़े?

pexels liza summer 6382978
positively

सच तो यह है कि प्रयास करना ही अपने हाथों में होता है। परिणाम चूंकि अपने हाथों में नहीं होता, इसलिए हम प्रयास करना क्‍यों छोड़े? फिर परिणाम भले ही कुछ भी हो। अपने मन के सारे डर, घृणा, अपराध-बोध और आत्म-ग्लानि से मुक्त होने का प्रयास करें।

सकारात्मक विचार मन में रखते हुए यदि सतत कर्मशील रहते है, तो अच्छे परिणाम अवश्य प्राप्त होंगे। कुछ विलम्ब भले ही हो जाए। वर्तमान, जो हमारे हाथों में है, यदि उसे हम सुधारे, तो भविष्य स्वतः ही सुधर जाएगा, इसमें किंचित भी अविश्वास करने की आवश्यकता नहीं है।

सब कुछ अनुकूल होने लगेगा

तो आप अपनी सोच, अपना नजरिया बदल कर देखें| फिर आप पाएंगे कि किस तरह सब कुछ आपके अनुकूल होने लगा है। बस, मन को दृढ़ रखकर प्रयासों की शुरूआत-भर की ही तो देर है। याद रखिये, संभावनाओं को अच्छाई में बदलने के लिए हमेशा एक प्रयास की आवश्यकता होती  है l

Think positively

Think positively