pexels rodnae productions 7020546 scaled

Menopause | जीवन का अंत नहीं है मेनोपॉज

pexels rodnae productions 7020546
Menopause

माना आप इस विषय में कुछ सुनना नहीं चाहतीं , सोचना भी नहीं चाहतीं । आपको लगता है ,आप अभी इसके लिए बहुत छोटी हैं , पर मेनोपॉज भयानक होना जरूरी नहीं है । असल में जब महिलाएं अपने अनुभव दूसरों के साथ बांटती है तो उन्हें पता चलता है कि यह जरूरी नहीं कि मेनोपॉज बुढ़ापे की शुरूआत हो ।

उल्टा , मेनोपॉज आपके जीवन का एक नया मोड़ है , जो स्फूर्तिजनक और संतोषजनक होता है । मेनोपॉज का अर्थ है मासिक धर्म का बंद होना और ये औरत के जीवनकाल के वह कुछ महीने हैं , जो उसके आखिरी मासिक धर्म के पहले और बाद के होते हैं ।

ज्यादातर महिलाएं लगभग 50 साल की उम्र में मेनोपॉज पर पहुंच जाती हैं । कुछ 40 साल और कुछ 60 साल की उम्र में ही मासिक धर्म से निवृत होती हैं । ‘ मेनोपॉज ‘ जब मासिक धर्म को समाप्त हुए पूरा एक वर्ष बीत गया हो , वह समय कहलाता है। पर इससे पहले पेरिमेनोपॉजया क्लाइमैट्रिक होता है । इस दौरान ओवरीज छोटी हो जाती है और अपना सामान्य काम करना बंद कर देती है , जिसमें अंडों का उत्पन्न होना शामिल है ।

यह एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन जैसे हार्मोन्स बनाना भी बंद कर देती है । एस्ट्रोजन की कमी के कारण सारे शरीर में कुछ बदलाव आ जाते हैं , खासकर प्रजनन व्यवस्था में । इसी की वजह से और भी कई लक्षण नजर आने लगते हैं , जो मेनोपॉज से संबंधित होते हैं ।

 सभी महिलाओं में जरूरी नहीं कि ये लक्षण नजर आएं । ये लक्षण हैं-  हॉट फ्लैशेस ( चेहरे और गर्दन का अचानक गर्म और लाल हो जाना ) , रात को पसीना आना , जिससे नींद खराब हो , नींद न आना , नर्वस होना , घबराहट , चिड़चिड़ापन , बार – बार पेशाब आना खासकर रात को , त्वचा में बदलाव और हड्डियों का दर्द । हार्मोनल संतुलन बिगड़ जाने से वजन भी बढ़ सकता है और मूड बदलते रहते हैं । इसके अलावा मासिक धर्म अनियमित या कम या ज्यादा भी हो सकता है ।

 

(Menopause) मेनोपॉज से पहले करने वाले कार्य

pexels christina morillo 1181519 1
Menopause

मेनोपॉज में कई शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन होंगे ही , पर इनसे निबटने के लिए कई कदम उठाए जा सकते हैं । नीचे दिए सुझाव आपके जीवन का यह समय खुशी से और आराम से बिताने में सहायक होंगे । लोगों से मिलें दूसरी महिलाओं से बात करें । उनसे पूछे कि वे कैसा अनुभव कर रही हैं और उससे किस तरह जूझ रही हैं ?

(Menopause) सक्रिय हो जाएं

सप्ताह में कम से कम तीन बार आधे घंटे के लिए वजन उठाने की क्रिया करें । इससे आपकी हड्डियां मजबूत बनी रहेंगी । आपके कोलेस्ट्राल का स्तर भी ठीक रहेगा और आप स्वस्थ महसूस करेंगी ।

(Menopause) कम फैट खाएं

कम फैट खाने से आपका कोलेस्ट्राल कम रहेगा । इससे हृदय रोग का खतरा कम हो जाएगा ।

धूम्रपान बंद

सिगरेट पीने से मेनोपॉज में और भी गड़बड़ी आ सकती है । उससे मेनोपॉज जल्दी ही नहीं जाता बल्कि जो थोड़ा बहुत ऐस्ट्रोजन शरीर में पैदा हो रहा हो , वह भी घट जाता है। धूम्रपान बंद करने से पहले बेहतर महसूस करेगी और एस्ट्रोजन मिलने से आपकी हड्डियां भी ज्यादा मजबूत हो जाएगी।

शोध के मुताबिक, 35 वर्ष की उम्र के बाद महिलाओं का ‘बोनमास ‘ एक फीसदी प्रतिवर्ष की दर से घटता जाता है । अपने आहार में कैल्शियम और फासफोरस की अधिक मात्रा लें । इससे आपका ‘बोनमास ‘ भी सुधर जाएगा और हड्डियों का दर्द भी ठीक हो जाएगा।

(Menopause) कोलेस्ट्रॉल चैक करें

अपने शरीर का कोलेस्ट्राल समय – समय पर चैक कराती रहें ।

अपने लक्षण समझें

pexels mentatdgt 937453
Menopause

अगर आप प्री मेस्ट्रअल सिड्रोंम से परेशान हों तो अपने डॉक्टर से मिलें । हो सकता है, आपका मेनोपॉज शुरू हो गया हो । डॉक्टर आपके ऊपर फालिकल सिमूलेटिंग हार्मोन ( एफएसएच ) टेस्ट करके बता सकता है कि आपका मेनोपॉज शुरू हो गया है कि नहीं ।

(Menopause)के बारें में बात करें

यदि आपके दिमाग पर मेनोपॉज को लेकर कोई बोझ है तो अपनी मां से बात करें । अक्सर महिलाओं में उनकी मां की तरह ही बदलाव आते हैं । अपने पति से भी खुलकर बात करें और आप मेनोपॉज के बारे जो कुछ जानती हैं , वह अपने पति को भी बताएं । एक तरीका और भी है , मेनोपॉज पर कोई अच्छी – सी किताब लाकर अपने पति को पढ़ाएं । कई किताबों में पुरुषों के लिए भी टिप्स होते हैं ।

बस , चिंता न करें । कई महिलाओं में तो कोई लक्षण ही नहीं होते , पर जिनमें होते हैं वे भी अच्छा इलाज करवा सकती हैं । अपनी सोच थोड़ी विस्तृत करें और मेनोपोंज से पहले और बाद में अपने ऊपर ध्यान दें । इससे आपका जीवन सुखी हो जाएगा ।

Menopause | Dr ABHA JAIN | रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज़ | LIFE LINE HOSPITAL BHOPAL | HINDI

Menopause & Mental Health || मेनोपॉज़ से गुजर रही महिलाएं ज़रूर सुने! || Dr Savita Sharma, Naturopath

Menopause | Dr ABHA JAIN | रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज़ | LIFE LINE HOSPITAL BHOPAL | HINDI

Menopause & Mental Health || मेनोपॉज़ से गुजर रही महिलाएं ज़रूर सुने! || Dr Savita Sharma, Naturopath