pexels nishant aneja 2566639 1 scaled

मेहंदी से घरेलू उपचार |Mehndi home remedies in Hindi

pexels nishant aneja 2566639 1
mehndi designs
  • मेहंदी का उपयोग घर घर में होता है। मांगलिक अवसरों पर श्रृंगार के रूप में हाथ- पैरों पर लगाई जाने वाली मेहंदी हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग है!
  • मेहंदी केवल हथेलियों को रचाने वाला प्रसाधन ही नहीं है बल्कि छोटे-मोटे रोगों के उपचार में भी मेहंदी की अहम भूमिका है।
  • यदि आप सिरदर्द से परेशान हैं तो मेहंदी की पत्तियों को पीसकर उनका सिर पर लेप करें।
  • कटे हुए घाव पर मेहंदी लगाने से आश्चर्यजनक लाभ होता है कुछ ही दिनों में घाव  पूरा भर जाएगा
  • गर्मियों में होने वाली फुंसियों पर मेहंदी और मेहंदी के तेल
  • का लेप करें ।फुंसियां शीघ्र ही मिट जाएगी।
  • आंवले के तेल को तैयार करते समय उसमें कुछ मेहंदी की पत्तियां मिला दें  इस तेल के उपयोग से सफेद बाल काले होने लगेंगे।
  • यदि आपके हाथ खुरदरे  हो रहे हैं तो पीसी हुई मेहंदी में नींबू का रस मिलाकर सप्ताह भर हाथों पर नियमित लेप करें।आपके हाथों की त्वचा खुरदरी नहीं रहेगी।
  • पैरों का कालापन दूर करने के लिए पीसी हुई मेहंदी का लेप पैरों पर करें ।सूख जाने पर मेहंदी हटा दें। अब सरसों का तेल पैरों पर लगा लें । इससे पैरों का कड़ापन और खुदरापन दूर हो जाएगा
  • मेहंदी के फूलों को पीसकर लेप करने से शूल का दर्द दूर हो जाता है।
  • मेहंदी की छाल को सुखाकर पीस लें। इस चूर्ण को थोड़े से पानी में प्रात:काल सेवन करने से महीने भर में पथरी का रोग दूर हो जाता है।
  • पानी में अधिक काम करते रहने से महिलाओं की पैरों की उंगलियों के बीच घाव जाते हैं ।उनमें मेहंदी पीसकर सप्ताह भर तक लगातार लगाने से ठीक हो जाते हैं।
  • गर्मियों में शरीर की गर्मी कम करने के लिए रात को शयन से पूर्व  पैरों पर मेहंदी लगा कर सोना काफी उपयोगी होता है।
  • मेहंदी की पत्तियों को पानी में भिगोकर घंटे भर बाद इस पानी से गरारे करने से मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं।
  • अक्सर पैरों में बिवाई फट जाती है। मेहंदी का लेप इसमें फायदा करता है।
  • मेहंदी को पानी में उबालकर उस पानी से फोड़े फुंसी धोने से राहत मिलती है
  • उच्च रक्तचाप में मेहंदी की पत्तियों को पीसकर पैरों के तलवों पर लगाने से फायदा होता है। मेहंदी हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग है!
  • मेहंदी की पत्तियों को पीसकर पानी में उबालकर छानकर पीने से गुर्दा संबंधी बीमारियों में लाभ होता है।
  • मिर्गी के रोगी को दो कप दूध में चौथाई कप मेहंदी की पत्तियों का रस पिलाना लाभप्रद होता है।
  • मेहंदी की पत्तियों को पीसकर पानी में भिगो लें। सवेरे  छानकर लगभग 200 ग्राम खाली पेट पी लें। माइग्रेन और सिर दर्द में लाभ होगा।
  • 50 ग्राम मेहंदी पाउडर को पानी में भिगोकर सवेरे उस पानी से गरारे करने से मुंह के छालों में आराम मिलता है
  • घुटनों या जोड़ों में दर्द की समस्या होने पर मेहंदी और अरंडी का तेल मिलाकर लगाएं।
  • (उक्त घरेलू उपचार किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में अपनी अनुकूलता अनुसार करें।)