कौन थे इलोजी देवता? होलिका – इलोजी की प्रेम कहानी का इतिहास

(Iloji history in hindi – इलोजी का इतिहास – इलोजी और होलिका की कहानी) परिचय आइये जानते है इतिहास का इलोजी और होलिका से उनके रिश्ते के बारे में के … Read More

राष्ट्रिय ध्वज

किसी भी देश का राष्ट्रीय ध्वज महज एक कपड़े का टुकड़ा नहीं होता, वरन वह उस मुल्क के नागरिकों, देश की संस्कृति और सांस्कृतिक परम्पराओं और समूची वतनपरस्ती व अस्मिता … Read More

ताजमहल का अनोखा दीपक|Unique Taj Mahal Deepak in hindi

एक शताब्दी से अधिक समय से जल रहा है ! इस समय ताजमहल में शाहजहां और मुमताज के समाधि-स्थल पर जो अलौकिक दीपक अपनी भव्य आभा बिखेर रहा है, उसका … Read More

सफरनामा केसर का

‘केसर‘ का नाम सुनते ही जेहन में एक तस्वीर उभरती है और बेहद उम्दा व बेशकीमती-सी खुशबू फिजां में घुलती-सी महसूस होती है। हिन्दुस्तानी कल्चर में अर्से-दराज केसर को एक … Read More

कैबरे चकाचैंध उजाले के पीछे का अंधेरा

मद्धम गुलाबी-नीली रोशनी में उŸोजक संगीत की धुन गूंज रही है, वेटर शराब, बीयर व अन्य खाने-पीने की वस्तुएं सर्व कर रहे हैं, पाश्र्व में थिरकता मादक संगीत उपस्थित लोगों … Read More

मुगल बादशाह भी मनाते थे होली!

होली हमारा बहुत प्राचीन रंगोत्सव रहा है। दूसरे मुल्कों से आए बादशाह भी हमारी होली से अछूते नहीं रहे। उन्होंने भी रंगो के इस रंगीले त्यौहार में दिलचस्पी दिखाई और … Read More

अप्रैल फूल यानि मूर्ख बनने-बनाने का दिन

अप्रैल माह के पहले दिन को आमतौर पर पूरी दुनिया में ‘मूर्ख-दिवस’ या ‘अप्रैल फूल’ के तौर पर मनाया जाता है। वस्तुतः मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और व्यस्तताओं के … Read More

किस्सा ढाका नहीं, सिरोंज की मलमल का!

‘ढाका‘ और ‘मलमल‘ का रिश्ता इतना शाश्वत हो चुका है कि हम ‘ढाका‘ की मलमल‘ के अलावा दूसरे स्थान पर मलमल के उत्पादन के विषय में सोच भी नहीं सकते। … Read More

चांदी: चमचमाता इतिहास | silver Information in hindi

सोना और चांदी दोनों धातुएं सदियों से आदमी के लिए इस्तेमाल से ज्यादा कौतूहल व जिज्ञासा का विषय रही हैं। जहां सोना अमीर-वर्ग की बपौती रहा है, वहीं चांदी अपनी … Read More

हमारी सांस्कृतिक विरासत : धर्मशालाएं

धर्मशालाएं सैंकड़ों वर्षों से हमारी समृद्ध एवं गौरवशाली सांस्कृतिकपरम्परा का अंग रही हैं। प्राचीन काल में धर्मशालाएं पर्यटकों के ठहरने काएक मात्र स्थान हुआ करती थीं। भारत में धर्मशाला की … Read More