download 6

दिलचस्प दास्तान क्रिकेट के चौके की

download 6

किकेट का खेल तो बहुत पुराना है, पर इसके नियम उतने पुराने नहीं हैं। पहले
यह खेल लगभग बैसे ही खेला जाता था, जैसे गांवों में लड़के गिल्ली-डंडा खेलते हैं।
एक जमाना था, जब किकेट में चौके और छक्के नहीं होते थे। गेंद को हिट करने
के बाद बल्लेबाज को दौड़कर ही रन बनाने होते थे, चाहे वह जितने बना लें।

1861 के अंत की बात है। इंग्लैण्ड का सोने की खुदाई करने वालों का एक
व्यापारी न्यूजीलैंड गया। उसकी बहन आस्ट्रेलिया के नगर मेलबोर्न में रहती थी। न्यूजीलैंड
में व्यापारी को खबर मिली कि उसकी बहन बीमार है। उसने अपना सारा माल 30 पाउंड
में बेचा और जहाज पर सवार होकर आस्ट्रेलिया के लिए चल दिया।

1 जनवरी 1862 के दिन वह मेलबोर्न पहुंचा। बहन के घर वह सुबह पांच बजे ही पहुंच गया था। उसने बहन का हाल-चाल पूछा, नहाया-धोया और यह सोचकर कि बहन की तबियत ठीक है, वह
शहर निकल गया। उसकी मंगेतर भी वहीं रहती थी।शहर में उसे खबर मिली कि इंग्लैंड की टीम आस्ट्रेलिया आयी हुई है और आज मैच होने वाला है। उन दिनों टेस्ट मैच नहीं होते थे।

इस व्यापारी की एक अच्छी आदत थी। वह डायरी लिखा करता था। रात को घर
लौटकर उसने अपनी डायरी में अपनी मंगेतर के बारे में तो लिखा ही, किकेट के मैच के
बारे में भी लिखा। मैच में दोनों टीमों मे 18 – 18 खिलाड़ी थे। ओवर चार गेंदों का होता
था। मैच देखने के लिए 20 हजार के करीब लोग आये हुए थे।

व्यापारी को इंग्लैंड के खब्बू खिलाड़ी ग्रिफिथ का खेल बहुत पंसद आया, जिसके
बारे में उसने अपनी डायरी में लिखा: ‘जब-तब वह गेंद को हिट करता और भागकर रन
बनाने के बजाय एक दो तीन चार की गिनती गिनने लगता, क्या शोर होता! लोग कहते,
उसने गेंद को बांउड़ी के बाहर कर दिया है- इसीलिए शायद वह चार तक की गिनती
गिनता है और भागता नहीं.

आमतौर पर यह माना जाता है कि किकेट के नियमों में चौके को 1866 में शामिल
किया गया और इस नियम के अनुसार पहला मैच इंग्लैंड के प्रसिद्ध मैदान लार्डस में हुआ ईटन और हैरो टीमों के बीच। पर इस व्यापारी की डायरी ने लोगों के विश्वास को गलत साबित कर दिया।
पहली बार किसी चौके का लिखित जिक उसी की डायरी में मिलता है। बहुत-से खेल
समीक्षक यह मानने लगे हैं कि चौके की शुरूआत आस्ट्रेलिया वालों ने ही की थी।