elena taranenko hCUA4xtxVTA unsplash

एकाग्रता

photo 1517926112623 f32a800790d4?ixid=MXwxMjA3fDB8MHxwaG90by1wYWdlfHx8fGVufDB8fHw%3D&ixlib=rb 1.2
Photo by Elena Taranenko on Unsplash

खलीफा उमर का नाम आपने जरूर सुना होगा। खलीफा चाहे कहीं भी हो, निर्धारित वक्‍त पर नमाज पढ़ने के अपने नियम का पालन जरूर करते थे। नमाज के वक्‍त पूरे एकाग्रचित्त हो जाते थे और उनका पूरा ध्यान अल्लाह की ओर होता था। एक बार युद्ध के मैदान में उनके पैरों में एक तीर आ लगा। दर्द के मारे उनका बुरा हाल था। तीर खींचने के लिए उसे छुते भी तो अधिक दर्द होता।

तभी एक बुजुर्ग सैनिक ने राय दी, आप लोग परेशान न हों। अभी तीर निकालने की चेष्टा न करें। उमर साहब जब नमाज पढ़ने को बैठें, उस वक्त तीर निकाल लें। इन्हें जरा भी कष्ट न होगा। सभी को आश्चर्य हुआ। नमाज के समय खलीफा उमर नमाज पढ़ने लगे। अगले ही क्षण उनका ध्यान खुदा की इबादत में लग गया। उस बूढ़े सैनिक ने तत्काल तीर निकाल लिया। खलीफा उमर को पता भी नहीं चल पाया कि कब उनके पैर से तीर निकाल लिया गया। खलीफा की यह अद्वितीय एकाग्रता (concentration) देखकर सभी को दंग रह जाना पड़ा।