pexels pixabay 206388 scaled

भौंहों से खूबसूरती बढ़ाइये | Beautify your eyebrows

pexels pixabay 206388

आँखों की खुबसुरती बढ़ाती है भौहें

चेहरे का आकर्षण होती है आंखें और आंखों की सुन्दरता की सुन्दता को बढ़ाती हैं भौंहें। यदि भौंहें सही आकार में नहीं होती हैं तो आंखों का आकर्षण जाता रहता है। जब आंखों में ही कोई आकर्षण न हो तो चेहरे पर फीकापन आ जाना लाजमी है। भौंहों को भी किसी सीमा तक सुधारा जा सकता है। भौहें वस्तुतः व्यक्ति के चरित्र की परिचायक होती हैं। हीरो और विलेन की भौंहें आपको अलग से दिख जायेंगी। नाटकों व फिल्मों में भी मेकअप के समय नारी पात्रों की भौंहों पर ही विशेष ध्यान दिया जाता है। अतः चेहरे की खूबसूरती के लिए आवश्यक है कि भौहें भी सुन्दर हों।

भौंहों की व्यर्थ काट-छांट न करें

ऊबड़-खाबड़, मोटी-मोटी भौंहों से सारे चेहरे का सौन्दर्य नष्ट हो जाता है। आज के अंधानुकरण में बिना जाने-समझे अन्धाधुन्ध अपनी भौंहों को कभी प्लक नहीं करना चाहिए।
भौंहों का आकार आपके चेहरे की बनावट पर निर्भर करता है। यदि आपकी भौंहे स्वयं ही उचित माप में लम्बी व चेहरे के उपयुक्त हैं तो कभी उनकी व्यर्थ कांट-छांट न करें नहीं तो आप प्रकृति प्रदत्त इस सुन्दर भेंट को खराब कर अपनी मुखाकृति भद्दी बना लेंगी।

सप्ताह में एक बार ट्रिमिंग जरुरी

यदि आपने अपनी भौंहों को मनचाहा आकार दे रखा है तो सप्ताह में एक बार उनकी ट्रिमिंग (तराशना) जरूरी होगा। ट्रिमिंग हेतु हेयर रिमूवर या रेजर का प्रयोग बिल्कुल न करें, न ही कभी कैंची से भौंहों के बाल काटने चाहिए। कई युवतियां अपनी पूर्व भौंहो को रेजर से पूर्ण रूप से साफ करके केवल आई ब्रो पेंसिल से भौहें बनाती हैं। दिन के समय देखने में वह काफी भद्दी लगती है। ऐसी बनावटी भौंहों से चेहरा भावहीन लगने लगता है और चेहरे की कोमलता नष्ट हो जाती है। मेकअप करते समय इस बात का पूरा-पूरा ध्यान रखना चाहिए कि चेहरे पर कोई भी चीज थुपी हुई या अस्वाभाविक न लगे। देखने वालों को चेहरा स्वाभाविक रूप से सुन्दर लगे।

भद्दी लगती है आवश्यकता से अधिक पतली भौंहें

भौंहो को प्राकृतिक आकार देने के लिए आप थ्रेडिंग की सहायता से स्वयं छांटकर पतला बना सकती है, लेकिन इस बात का अवश्य ख्याल रखें कि आपकी भौंहे आवश्कता से ज्यादा पतली न हो जायें अन्यथा भद्दी लगने लगेंगी। प्लकिंग द्वारा भी आप अपनी भौंहों को इच्छित आकार दे सकती हैं। अपने चेहरे की बनावट के अनुरूप ही प्लकर से भौंहों के बालों को प्लक करना ठीक रहेगा। बेहतर यही है कि पहली बार तो आप समीपस्थ किसी ब्यूटी क्लीनिक में जाकर भवें ठीक करवा लें। इसके पश्चात् आईना सामने रखकर आईब्रो पेंसिल से भौहों की रेखाएं खींच लें व अनावश्यक बालों को छांट लें।

स्नान के बाद संवारें भौहें

लेकिन भौंहों को सजाना संवारना हमेशा स्नान करने बाद ही या चेहरा अच्छी तरह से धोने के पश्चात् ही शुरू करना चाहिए क्योंकि नहाने के बाद बाल मुलायम और अपने ठीक स्थान पर होते हैं। स्नान करने के बाद मुख को रोएदार तौलिए से दबा-दबा कर सुखा लीजिए। तौलिए को चेहरे पर रगड़िये मत। अब अगर भौंहें उचित रूप से पहले से ही बनी है तो उन्हें एक कोमल ब्रश से ठीक आकार दे दें।

यदि इधर-उधर फालतू बाल उगे हैं, जो भौंहों के प्राकृतिक सौंदर्य को कम कर रहें हैं तो उन फालतू बालों कों का प्लकर (छोटी-सी चिमटी) द्वारा झटके से उखाड़ दें। बालों को प्लकर द्वारा खींचने से पहले भौंहों के आस-पास कोई भी टेल्कम पाउडर लगा लें। वेसलीन भी लगाया जा सकता है। ऐसा करने से बाल खींचने से तकलीफ महसूस नहीं होती।

प्लकिंग करने की विधि यह है कि सर्वप्रथम तो भौंहों के ऊपरी सिरे के अनावश्यक लगने वाले बालों को उखाड़िये और बाद में नीचे के सिरे के। भौहों को ज्यादा घना नहीं रखना चाहिए। बेहतर तो यही होगा कि भौंहें बीच में कुछ झुकी हुईं हों। प्लकिंग से बाल उखाड़ने के पश्चात् उस स्थान पर कोई एंटिसेप्टिक क्रीम अवश्य लगाना चाहिए।
वैसे तो सप्ताह में दो बार भोंहों को संवारना चाहिए किन्तु यदि इतनी जल्दी न भी कर सकें तो

सप्ताह में एक बार भौंहों की देखभाल करें

सप्ताह में एक बार तो भौहों अवश्य ही ठीक करना चाहिए। ऐसा करने से भौहों की शेप सदैव एक ही समान रहती है। अधिक समय बाद करने से आपको भवों को नये सिरे से संवारना होगा। जो हो सकता है, आपके मन चाहे शेड को ही बदल डाले। भौंहों को बनाने से पहले चेहरे की बनावट का तथा आंखों की बनावट का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। यदि आपका चेहरा गोल है तो आप भौंहों के ऊपर के हिस्से को चैड़ा और आंखों के नीचे की कोर की तरफ पतला आकार दें और यदि आपका चेहरा पतला और लम्बा है तो कोई भी अच्छा आकार दे सकती हैं।

यदि आपकी आंखें बड़ी है तो जरा पतली लाईन का आकार दें। यदि आंखे छोटी हैं तो चैड़ी लाइन का आकार दें। जिन महिलाओं की नाक ज्यादा लम्बी हो उन्हें भौंहें आंखों से अधिक ऊपर नहीं बनाना चाहिए अन्यथा आंखे छोटी मालूम पड़ती हैं।

पाउडर के कणों को साफ करें

अक्सर देखने में आता है कि पाउडर का प्रयोग करने से पलकों व भौंहो में पाउडर के कण रह जाते हैं। पाउडर के इन कणों को साफ करने के लिए कोमल ब्रश या कोई भी कोल्ड क्रीम काम में ला सकती हैं। कोमल ब्रश की मदद से भौंहों और पलकों को झाड़कर साफ कर लेना चाहिए। इस प्रकार पाउडर के कण साफ हो जाने से आंखों व भौंहों में उज्जवलता आ जाती है। चेहरे पर विशेष आकर्षण आ जाता है। भौंहों को उचित आकार देने के लिए काली आई ब्रो पैंसिंल की बजाय ब्राउन आई ब्रो पेंसिल काम में लें।

चेहरे के रंग के अनुरूप चुनें – आई शैडो

आजकल बाजार में पलकों पर लगाने वाला रंग भी मिलता है जिसे आई शैडो कहते हैं। अपने चेहरे के रंग के अनुसार ही आई शैडो का रंग चुनना चाहिए और उसे अपने चेहरे की बनावट और आंखों के हिसाब से चैड़ा या पतला लगाना चाहिए।