भीड़ से अलग

तेज रफ्तार  जिंदगी में भौतिकता के पीछे भागता इंसान , जब अंततः हांफकर थककर चूर हो पस्त सा हो जाता है कितना निरीह, अकेला और बेचारा लगता है । काश … Read More